लोग क्या कहेंगे - Sabse Bada ROG... Kya Kahenge LOG... - Be Positive

Posts in "General " Category

  • Kanyadan एक सोच एक पहल

    Category : Other, General By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    228
    Posted
    17 Jul 2016

    " कन्यादान "
    जाओ , मैं नहीं मानता इसे ,
    क्योंकि मेरी बेटी कोई चीज़ नहीं ,
    जिसको दान में दे दूँ ;
    मैं बांधता हूँ बेटी तुम्हें एक पवित्र बंधन में ,
    पति के साथ मिलकर निभाना तुम ,
    मैं तुम्हें अलविदा नहीं कह रहा ,
    आज से तुम्हारे दो घर ,
    जब जी चाहे आना तुम ,
    जहाँ जा रही हो ,
    खूब प्यार बरसाना तुम ,
    सब को अपना बनाना तुम ,
    पर कभी भी ,
    न मर मर के जीना ,
    न जी जी के मरना तुम ,
    तुम अन्नपूर्णा , शक्ति , रति सब तुम ,
    ज़िंदगी को भरपूर जीना तुम ,
    न तुम बेचारी , न अबला ,
    खुद को असहाय कभी न समझना तुम ,
    मैं दान नहीं…

  • Guru Purnima - Celebrate July 19, 2016

    Comments
    0
    Views
    76
    Posted
    19 Jul 2016

    Guru Purnima (गुरुपूर्णिमा)
    Guru Purnima - Celebrate July 19, 2016 

    | गुरुब्रम्हा गुरुविष्णु गुरुदेवो महेश्वरा |
      | गुरु साक्षात् परब्रम्ह तस्मय श्री गुरवे नमः |

    गुरु गोविंद दोनों खड़े किनको लागु पाय!!!
    बलि हारी गुरु आप की गोविन्द दियो बताय...

    हर साल आती गुरुपूर्णिमा,
    शिष्यत्व का जागरण कराती गुरुपूर्णिमा।
    गुरु स्मरण कराने आती गुरुपूर्णिमा,
    शिष्यों को उनके वादे याद दिलाती गुरुपूर्णिमा।

    शिष्य की निष्ठा का प्रमाण है गुरुपूर्णिमा,
    शिष्य की श्रद्धा की सम्पूर्णता है गुरुपूर्णिमा।
    सद्गुरु के वरदानों …

  • Bharti Sanskrati

    Comments
    0
    Views
    81
    Posted
    30 Jun 2016

    भारतीय संस्कृति

    अपने भारत की संस्कृति को पहचानें | अपने बच्चों को भी ये सब बताए |

    दो पक्ष - कृष्ण पक्ष, शुक्ल पक्ष

    तीन ऋण – देव ऋण, पितृ ऋण, ऋषि ऋण

    चार युग – सतयुग, त्रेतायुग, द्धापरयुग, कलियुग

    चार धाम – द्धारिका, बद्रीनाथ, जगन्नाथ, रामेश्वर धाम

    चारपीठ – शारदा पीठ (द्धारिका), ज्योतिष पीठ(जोशीमठ बदरीधाम), गोवर्धन पीठ(जगन्नाथपुरी), श्रंगेरीपीठ

    चार वेद – ऋग्वेद, अर्थवेद, यजुर्वेद, सामवेद

    चार आश्रम – ब्रम्हाचर्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ, संन्यास

    चार अन्त:करण – मन, बुद्धि, चित, अहंकार

    पञ्…

  • Life is beautiful, enjoy it 75% बीमारियों का मूल कारण...

    Category : Other, Entertainment, General By : Priya
    Comments
    0
    Views
    67
    Posted
    28 Jun 2016

    जब एक कैदी को फांसी की सजा सुनाई गई

    तो वहा के कुछ वैज्ञानिकों ने सोचा कि क्यों न इस कैदी पर कुछ प्रयोग किया जाये !

    तब कैदी को बताया गया कि हम तुम्हें फांसी देकर नहीं परन्तु जहरीला कोबरा साप डसाकर मारेगें !

    और उसके सामने बड़ा सा जहरीला साप ले आने के बाद कैदी की आँखे बंद करके कुर्सी से बॉधा गया और उसको सॉप नहीं बल्कि दो सेफ्टी पिन्स चुभाई गई !

    और क्या हुआ कैदी की कुछ सेकेन्ड मे ही मौत हो गई,

    पोस्टमार्डम के बाद पाया गया कि कैदी के शरीर मे सांप के ज़हर के समान ही ज़हर है ।

    अब ये ज़हर कहा से आय…

  • Few Beautiful Messages to Start your day Beautifully

    Category : General , Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    111
    Posted
    28 Jun 2016

    Few Beautiful Messages to Start your day Beautifully -

    1. जिदंगी मे कभी भी किसी को बेकार मत समझना,क्योक़ि
            बंद पडी घडी भी दिन में  दो बार सही समय बताती है।

    2. किसी की बुराई तलाश करने वाले इंसान की मिसाल उस
           मक्खी की तरह है जो सारे खूबसूरत जिस्म को छोडकर
               केवल जख्म पर ही बैठती है।

    3. टूट जाता है गरीबी मे  वो रिश्ता जो खास होता है,
            हजारो यार बनते है जब पैसा पास होता है।

    4. मुस्करा कर देखो तो सारा जहाॅ रंगीन है,
            वर्ना भीगी पलको से तो आईना भी
              …