Don`t lose hope you never know what tomorrow will bring.

Posts in "Other" Category

  • Child Poem in English-I Have a Little Frog

    Category : Other, Entertainment By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    76
    Posted
    16 May 2017



    I Have a Little Frog



    I have a Little Frog,

    His name is Tiny Tim.

    I put him in the bathtub,

    To see if he could swim,

    He drank up all the water.

    He gobbled up the soap,

    And when he tried to talk,

    He had a BUBBLE in his throat.

  • Child Poem in English- welcome

    Category : Other, Entertainment By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    100
    Posted
    21 May 2017


    WELCOME!

    Goodbye vacation!
    Hello to school!

    Hello new class,
    Goodbye old pool.

    Vacation time is over,
    School time is here

    Now we welcome
    A new school year!

  • Inspirational Thoughts (पंडित जी का एक प्रर्रेक प्रसंग)

    Comments
    0
    Views
    277
    Posted
    17 Jul 2016

    Inspirational Thoughts (पंडित जी का एक प्रर्रेक प्रसंग)

    एक नगर
    मे रहने वाले एक पंडित जी की ख्याति दूर-दूर तक थी।
    पास ही के गाँव मे स्थित मंदिर के पुजारी का आकस्मिक निधन होने की वजह से,
    उन्हें वहाँ का पुजारी नियुक्त किया गया था।

      एक बार वे अपने गंतव्य की और जाने के लिए बस मे चढ़े,
    उन्होंने कंडक्टर को किराए के रुपये दिए और सीट पर जाकर बैठ गए।

      कंडक्टर ने जब किराया काटकर उन्हे रुपये वापस दिए तो
    पंडित जी ने पाया की कंडक्टर ने दस रुपये ज्यादा दे दिए है। पंडित जी ने सोचा कि थोड़ी देर बाद कं…

  • Love u Mom

    Comments
    0
    Views
    24
    Posted
    31 May 2017

    Love u Mom 

    लेती नहीं दवाई "माँ",

    जोड़े पाई-पाई "माँ"।
    .
    दुःख थे पर्वत, राई "माँ",
    हारी नहीं लड़ाई "माँ"।
    .
    इस दुनियां में सब मैले हैं,
    किस दुनियां से आई "माँ"।
    .
    दुनिया के सब रिश्ते ठंडे,
    गरमागर्म रजाई "माँ" ।
    .
    जब भी कोई रिश्ता उधड़े,
    करती है तुरपाई "माँ" ।
    .
    बाबू जी तनख़ा लाये बस,
    लेकिन बरक़त लाई "माँ"।
    .
    बाबूजी थे सख्त मगर ,
    माखन और मलाई "माँ"।
    .
    बाबूजी के पाँव दबा कर
    सब तीरथ हो आई "माँ"।
    .
    नाम सभी हैं गुड़ से मीठे,
    मां जी, मैया, माई, "माँ" ।
    .
    सभी साड़ियाँ छीज गई थीं,
    मगर नहीं कह पाई "माँ" ।
    .
    घर में चूल्हे मत बाँटो रे…

  • Beautiful poem :- कुछ हँस के बोल दिया करो..

    Category : Other By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    8
    Posted
    17 Jul 2016

    Sharing a beautiful poem:

    कुछ हँस के बोल दिया करो,
    कुछ हँस के टाल दिया करो,
    यूँ तो बहुत परेशानियां है तुमको भी मुझको भी,
    मगर कुछ फैंसले वक्त पे डाल दिया करो,
    न जाने कल कोई हंसाने वाला मिले न मिले..
    इसलिये आज ही हसरत निकाल लिया करो !!
    हमेशा समझौता करना सीखिए..
    क्योंकि थोड़ा सा झुक जाना किसी रिश्ते को हमेशा के लिए तोड़ देने से बहुत बेहतर है ।।।
    किसी के साथ हँसते-हँसते उतने ही हक से रूठना भी आना चाहिए !
    अपनो की आँख का पानी धीरे से पोंछना आना चाहिए !
    रिश्तेदारी और दोस्ती में कैसा मान अपमान ?
    बस…