इच्छा पूरी नहीं होती है तो क्रोध बढ़ता है और इच्छा पूरी होती है तो लोभ बढ़ता है.

Posts in "Other" Category

  • Kya khub likha he ? क्या खुब लिखा है...

    Category : Other, General By : Rajesh
    Comments
    0
    Views
    46
    Posted
    25 Apr 2016

    क्या खुब लिखा है...

              पायल हज़ारो रूपये में आती है पर पैरो में पहनी जाती है... और... बिंदी 1  रूपये में आती है मगर माथे पर सजाई जाती है... इसलिए कीमत मायने नहीं रखती उसका कृत्य मायने रखता हैं...
                     एक किताबघर में पड़ी गीता और कुरान आपस में कभी नहीं लड़ते... और जो उनके लिए लड़ते हैं वो कभी उन दोनों को नहीं पढ़ते...
                नमक की तरह कड़वा ज्ञान देने वाला ही सच्चा मित्र होता है... मिठी बात करने वाले तो चापुलुस भी होते है... इतिहास गवाह है की आज तक कभी नमक में कीड़े नहीं पड़े... और…

  • माँ की इच्छा - Maa ki iccha ( Desire )

    Category : Other By : Omkar
    Comments
    0
    Views
    97
    Posted
    23 Feb 2016

     माँ की इच्छा...

    महीने बीत जाते हैं
    साल गुजर जाता है
    वृद्धाश्रम की सीढ़ियों पर
    मैं तेरी राह देखती हूँ।

                  आँचल भीग जाता है
                  मन खाली खाली रहता है
                  तू कभी नहीं आता
                  तेरा मनीआर्डर आता है।

    इस बार पैसे न भेज
    तू खुद आ जा
    बेटा मुझे अपने साथ
    अपने घर लेकर जा।

                तेरे पापा थे जब तक
                समय ठीक रहा कटते
                खुली आँखों से चले गए
                तुझे याद करते करते।
               
    अंत तक तुझको हर दिन
    बढ़िया बेटा कहते थे
    तेरे साहबपन का
    गुमान बहुत वो करते थे।

          …

  • Sakhahari Abhiyan - शाकाहारी-अभियान

    Category : Other By : Atul
    Comments
    0
    Views
    36
    Posted
    13 Oct 2015

    महाराणा प्रताप को घास की रोटी

    अपने बच्चों के लिए सेंकनी पड़ी ...और उसे

    भी एक जंगली बिलाव झपट्टा मारकर ले

    भागा, उसके बाद पूरा परिवार भूखा सो

    गया.. . महाराणा की आँखों में आँसू आ

    गए....पर उन्होंने अकबर की अधीनता

    स्वीकार नहीं की..!! . अब आप सभी

    बताइए.... . क्या जंगल में महाराणा

    प्रताप को चार खरगोश नहीं मिल रहे थे

    पकाने को ?? या उनका भाला एक भैंसा

    नहीं मार सकता था..?? . यह कथा भी

    सिद्ध करती है....महापुरुष,महायोद्धा

    भी मांसाहारी नहीं थे .।।" .

     

    कंद-मूल खाने वालों से मांसाहारी डरते थे।।…

  • Diamond story 2

    Category : Other By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    33
    Posted
    20 Sep 2015

    बहुत पुरानी बात है, एक बार एक राजमहल में काम करने वाली महिला का अबोध लड़का, राजमहल में खेल रहा था। खेलते-खेलते उसके हाथ में एक हीरा आ गया। वो लड़का, दौड़ता हुआ अपनी माँ के पास गया और उसने अपनी माँ को वो हीरा दिखाया। माँ ने देखा और समझ गयी कि ये हीरा है। मगर उसने बच्चे को बहलाते हुए कहा कि ये तो कांच का टुकड़ा है और उसने उस हीरे को महल के बाहर फेंक दिया। थोड़ी देर बाद वो महिला राजमहल से बाहर निकली और बाहर से हीरा उठा कर बाजार चली गयी। बाजार में उसने उस हीरे को एक सुनार को दिखाया, सुनार ने भी यही…

  • Maharana Pratap - A Real Hero of Mewar

    Category : Other By : SK
    Comments
    0
    Views
    3016
    Posted
    18 Jul 2015

    नाम - कुँवर प्रताप जी (श्री महाराणा प्रताप सिंह जी)

    जन्म - 9 मई, 1540 ई.

    जन्म भूमि - कुम्भलगढ़, राजस्थान

    पुण्य तिथि - 29 जनवरी, 1597 ई.

    पिता - श्री महाराणा उदयसिंह जी

    माता - राणी जीवत कँवर जी

    राज्य - मेवाड़

    शासन काल - 1568–1597ई.

    शासन अवधि - 29 वर्ष

    वंश - सुर्यवंश

    राजवंश - सिसोदिया

    राजघराना - राजपूताना

    धार्मिक मान्यता - हिंदू धर्म

    युद्ध - हल्दीघाटी का युद्ध

    राजधानी - उदयपुर

    पूर्वाधिकारी - महाराणा उदयसिंह

    उत्तराधिकारी - राणा अमर सिंह

     

    अन्य जानकारी -

    • महाराणा प्रताप सिंह जी क…