संसार में सबसे बड़े अधिकार सेवा व त्याग से मिलते हैं | (मुंशी प्रेमचंद)

Posts in "Motivational" Category

  • Pride and humility - अभिमान और नम्रता

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    40
    Posted
    01 Aug 2018

            अभिमान और नम्रता    

          एक बार नदी को अपने पानी के प्रचंड प्रवाह पर घमंड हो गया
                  नदी को लगा कि ...
         मुझमें इतनी ताकत है कि मैं  पहाड़, मकान, पेड़, पशु, मानव आदि
         सभी को बहाकर ले जा सकती हूँ

         एक दिन नदी ने बड़े गर्वीले अंदाज में समुद्र से कहा ~ बताओ !
          मैं तुम्हारे लिए क्या-क्या लाऊँ ?
         मकान, पशु, मानव, वृक्ष जो तुम चाहो, उसे ... मैं जड़ से उखाड़कर ला सकती हूँ.

         समुद्र समझ गया कि ...
            नदी को अहंकार हो गया है
               
       उसने नदी से कहा ~  य…

  • Sister - बहन पर अनमोल सुविचार

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    111
    Posted
    08 May 2018


    बहन पर अनमोल सुविचार :-

    ✔ बहन से अच्छा दोस्त और कोई नहीं हो सकता, और मेरी बहना ! तुमसे अच्छी कोई और बहन हो ही नहीं सकती।

    ✔ भाई बहन उतने ही करीब होते हैं जितनी की हमारी आँखें।

    ✔ ये लम्हा कुछ खास है, बहन के हाथों में भाई का हाथ है, ओ बहना तेरे लिए मेरे पास कुछ खास हैं, तेरे सुकून की खातिर मेरी बहना, तेरा भाई हमेशा तेरे साथ है।

    ✔ जान कहने वाली कोई गर्लफ्रेंड हो या ना हो लेकिन ओय हीरों कहने वाली एक बहन जरुर होनी चाहिए।

    ✔ दूसरे की बहिन के बारे में उतना ही बोलो, जितना खुद की बहिन के बारे में सुन सको।

    ✔ बहन…

  • A Short Story - ​खाली पेट -​ (लघुकथा)

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    69
    Posted
    04 Feb 2018

    ​खाली पेट -​ (लघुकथा)
     
    लगभग दस साल का बालक राधा का गेट बजा रहा है।
    राधा ने बाहर आकर पूंछा
    "क्या है ? "
    "आंटी जी क्या मैं आपका गार्डन साफ कर दूं ?"
    "नहीं, हमें नहीं करवाना।"
    हाथ जोड़ते हुए दयनीय स्वर में "प्लीज आंटी जी करा लीजिये न, अच्छे से साफ करूंगा।"
    द्रवित होते हुए "अच्छा ठीक है, कितने पैसा लेगा ?"
    "पैसा नहीं आंटी जी, खाना दे देना।"
    " ओह !! अच्छे से काम करना।"
    "लगता है, बेचारा भूखा है।पहले खाना दे देती हूँ। राधा बुदबुदायी।"
    "ऐ 
    लड़के ! पहले खाना खा ले, फिर काम करना।
    "नहीं आंट…

  • A Life Story - एक प्रसंग जिंदगी का

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    105
    Posted
    04 Feb 2018

    एक प्रसंग जिंदगी का

    एक राजा बहुत दिनों से पुत्र की प्राप्ती के लिये आशा लगाये बैठा था,
    पर पुत्र नही हुआ।
    उसके सलाहकारों ने तांत्रिकों से सहयोग की बात बताई।
    सुझाव मिला कि किसी बच्चे की बलि दे दी जाये तो पुत्र प्राप्ती हो जायेगी।
    राजा ने राज्य में ये बात फैलाई कि जो अपना बच्चा देगा
    उसे बहुत सारे धन दिये जायेगे।
    एक परिवार में कई बच्चें थे, गरीबी भी थी,
    एक ऐसा बच्चा भी था जो ईश्वर पर आस्था रखता था
    तथा सन्तों के संग सत्संग में ज्यादा समय देता था।
    परिवार को लगा कि इसे राजा को दे दिया जाये
    क्योंकि ये कुछ का…

  • Karma is real destiny - कर्म ही असली भाग्य

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    44
    Posted
    30 Apr 2018

    Karma is real destiny  (कर्म ही असली भाग्य)



    तेरा मेरा करते एक दिन चले जाना है,
           जो भी कमाया यही रह जाना है !

    कर ले कुछ अच्छे कर्म,
          साथ यही तेरे जाना है !

    रोने से तो आंसू भी पराये हो जाते हैं,

           लेकिन मुस्कुराने से...
    पराये भी अपने हो जाते हैं !

           मुझे वो रिश्ते पसंद है,
    जिनमें  " मैं " नहीं  " हम " हो !!

                 इंसानियत दिल में होती है, हैसियत में नही,
                           उपरवाला कर्म देखता है, वसीयत नही..

    -----------------------------------------------
       
    जीवन में किसी को…