❝कोशिश कर, हल निकलेगा। आज नही तो, कल निकलेगा।❞

Posts in "Other" Category

  • Please save girls....बेटी बचाओ

    Category : Other By : Shilpa
    Comments
    0
    Views
    107
    Posted
    01 Jul 2016

    इसे शांत चित्त से पढिए।

    हर लडकी के लिए प्रेरक कहानी...
    और लड़कों के लिए अनुकरणीय शिक्षा...,

    कोई भी लडकी की सुदंरता उसके चेहरे से ज्यादा दिल की होती है।
    ...
    ...
    अशोक भाई ने घर मेँ पैर रखा....‘अरी सुनती हो !'

    आवाज सुनते ही अशोक भाई की पत्नी हाथ मेँ…

  • A small Village Description in Hindi

    Category : Tourism, Other, Entertainment By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    108
    Posted
    01 Jul 2016

     आओ पाछा गाँव चालां

    छोटा सा गाँव मेरा,
    पूरा बिग बाजार था...!!

    एक नाई,
    एक मोची,
    एक कालिया लुहार था..!!

    छोटे छोटे घर थे, हर आदमी बङा दिलदार था..!!

    कही भी रोटी खा लेते, हर घर मे भोजऩ तैयार था..!!

    बाड़ी की सब्जी मजे से खाते थे, जिसके आगे शाही पनीर …

  • Bharti Sanskrati

    Comments
    0
    Views
    127
    Posted
    30 Jun 2016

    भारतीय संस्कृति

    अपने भारत की संस्कृति को पहचानें | अपने बच्चों को भी ये सब बताए |

    दो पक्ष - कृष्ण पक्ष, शुक्ल पक्ष

    तीन ऋण – देव ऋण, पितृ ऋण, ऋषि ऋण

    चार युग – सतयुग, त्रेतायुग, द्धापरयुग, कलियुग

    चार धाम – द्धारिका, बद्रीनाथ, जगन्नाथ, रामेश्वर…

  • Life is beautiful, enjoy it 75% बीमारियों का मूल कारण...

    Category : Other, Entertainment, General By : Priya
    Comments
    0
    Views
    112
    Posted
    28 Jun 2016

    जब एक कैदी को फांसी की सजा सुनाई गई

    तो वहा के कुछ वैज्ञानिकों ने सोचा कि क्यों न इस कैदी पर कुछ प्रयोग किया जाये !

    तब कैदी को बताया गया कि हम तुम्हें फांसी देकर नहीं परन्तु जहरीला कोबरा साप डसाकर मारेगें !

    और उसके सामने बड़ा सा जहरीला साप ले आन…

  • Way of Talking

    Category : Other By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    26
    Posted
    21 Jul 2017

    रोटी पर "घी" और
    नाम के साथ "जी"
    लगाने से,
    "स्वाद" और "इज्जत" 
    दोनों बढ़ जाते हैं |

    इंसान “जन्म” के दो “वर्ष” बाद
       “बोलना” सीख जाता है

         लेकिन

    “बोलना” क्या है ये “सीखने” मैं
    पूरा “जन्म” लग जाता है।