अगर एक हारा हुआ इंसान हारने के बाद भी "मुस्करा" दे...!! तो........!! जितने वाला भी जीत की खुशी खो देता हैं। "ये है मुस्कान की ताकत"

Posts in "Spiritual - Related to God" Category

  • SHRI HANUMAN CHALISA

    Comments
    0
    Views
    75
    Posted
    08 Sep 2015

    SHRI HANUMAN CHALISA

       

    Shri Guru Charan Saroj Raj  Nij mane mukure sudhar  

    Varnao Raghuvar Vimal Jasu Jo dayaku phal char  

       

    Budhi Hin Tanu Janike  Sumirau Pavan Kumar  

    Bal budhi Vidya dehu mohe  Harahu Kalesa Vikar  

       

    Jai Hanuman gyan gun sagar Jai Kapis tihun lok ujagar  

    Ram doot atulit bal dhama Anjani-putra Pavan sut nama  

       
    Mahavir Vikram Bajrangi Kumati nivar sumati Ke sangi  

    Kanchan varan viraj subesa Kanan Kundal Kunchit Kesa  

       
    Hath Vajra Aur Dhuvaje Viraje …

  • ईश्वरीय शक्ति - God Power

    Comments
    0
    Views
    73
    Posted
    06 Aug 2015

    एक बार एक अत्यंत गरीब महिला जो ईश्वरीय शक्ति पर बेइंतिहा विश्वास करती थी। एक बार अत्यंत ही विकट स्थिति में आ गई। कई दिनों से खाने के लिए पुरे परिवार को नहीं मिला।

    एक दिन उसने रेडियो के माध्यम से ईश्वर को अपना सन्देश भेजा कि वह उसकी मदद करे।

    यह प्रसारण एक नास्तिक ,घमण्डी और अहंकारी उद्योगपति ने सुना और उसने सोचा कि क्यों न इस महिला के साथ कुछ ऐसा मजाक किया जाये कि उसकी ईश्वर के प्रति आस्था डिग जाय।

    उसने आपने सेक्रेटरी को कहा कि वह ढेर सारा खाना और महीने भर का राशन उसके घर पर देकर आ जाये और जब व…

  • श्री कृष्ण और अर्जुन - Story of Lord Krishna & Arjun

    Comments
    0
    Views
    53
    Posted
    28 Jul 2015

    एक बार श्री कृष्ण और अर्जुन भ्रमण पर निकले तो उन्होंने मार्ग में एक निर्धन ब्राहमण को भिक्षा मागते देखा....

    अर्जुन को उस पर दया आ गयी और उन्होंने उस ब्राहमण को स्वर्ण मुद्राओ से भरी एक पोटली दे दी। जिसे पाकर ब्राहमण प्रसन्नता पूर्वक अपने सुखद भविष्य के सुन्दर स्वप्न देखता हुआ घर लौट चला। किन्तु उसका दुर्भाग्य उसके साथ चल रहा था, राह में एक लुटेरे ने उससे वो पोटली छीन ली। ब्राहमण दुखी होकर फिर से भिक्षावृत्ति में लग गया।अगले दिन फिर अर्जुन की दृष्टि जब उस ब्राहमण पर पड़ी तो उन्होंने उससे इ…

  • Story of trust & Satisfaction - एक व्यक्ति एक दिन बिना बताए

    Comments
    0
    Views
    144
    Posted
    18 Jul 2015

    एक व्यक्ति एक दिन बिना बताए काम पर नहीं गया..... मालिक ने, सोचा इस कि तन्खाह बढ़ा दी जाये तो यह और दिल्चसपी से काम करेगा.....

    और उसकी तन्खाह बढ़ा दी.... अगली बार जब उसको तन्खाह से ज़्यादा पैसे दिये तो वह कुछ नही बोला चुपचाप पैसे रख लिये.....

    कुछ महीनों बाद वह फिर ग़ैर हाज़िर हो गया...... मालिक को बहुत ग़ुस्सा आया..... सोचा इसकी तन्खाह बढ़ाने का क्या फायदा हुआ

    यह नहीं सुधरेगा और उस ने बढ़ी हुई तन्खाह कम कर दी और इस बार उसको पहले वाली ही तन्खाह दी...... वह इस बार भी चुपचाप ही रहा और

    ज़बान से …

  • A Story Truth of life

    Comments
    0
    Views
    44
    Posted
    18 Jul 2015

    पुराने ज़माने की बात है।

    किसी गाँव में एक सेठ रहेता था। उसका नाम था नाथालाल सेठ। वो जब भी गाँव के बाज़ार से निकलता था तब लोग उसे नमस्ते या सलाम करते थे , वो उसके जवाब में मुस्कुरा कर अपना सिर हिला देता था और बहुत धीरे से बोलता था की " घर जाकर बोल दूंगा "

    एक बार किसी परिचित व्यक्ति ने सेठ को ये बोलते हुये सुन लिया। तो उसने कुतूहल वश सेठ को पूछ लिया कि सेठजी आप ऐसा क्यों बोलते हो के " घर जाकर बोल दूंगा "

    तब सेठ ने उस व्यक्ति को कहा, में पहले धनवान नहीं था उस समय लोग मुझे 'नाथू ' कहकर बुलाते थे …