❝भूलों सभी को मगर माँ-बाप को न भूलना शास्त्र , गुरु एवं माँ-बाप का आदर करने वाला चिर आदरणीय हो जाता हैं |❞
Category : Motivational
By : User image Anonymous
Comments
10
Views
11897
Posted
28 May 15

कोशिश कर, हल निकलेगा।

आज नही तो, कल निकलेगा।

अर्जुन के तीर सा सध,

मरूस्थल से भी जल निकलेगा।।

मेहनत कर, पौधो को पानी दे,

बंजर जमीन से भी फल निकलेगा।

ताकत जुटा, हिम्मत को आग दे,

फौलाद का भी बल निकलेगा।

जिन्दा रख, दिल में उम्मीदों को,

गरल के समन्दर से भी गंगाजल निकलेगा।

कोशिशें जारी रख कुछ कर गुजरने की,

जो है आज थमा थमा सा है, चल निकलेगा।।


218
30

View Comments :

By : Preeti
26
5
Very nice
By : Anshul vadnere
0
0
Superbly written really inspires to go on.......
By : Rahul Shrivastava
0
0
Super sahab
By : Sahil
2
0
Its beautifully written. Who is the poet ??
By : Virendra Jaiswal
0
1
Bahut badia
By : AVIRAL
1
0
aesome
By : Shivansh
0
0
PlZ give some lines to speak before starting
By : TIAA
0
0
Such an inspirational poems
By : Deepak Thakur
0
0
Superb +Nice +awesome=this poem???????? Very nice poem
By : Supriya shaw
0
0
inspiring...
Add Comment