One best book is equal to hundred good friends but one good friend equal to library.

Knowledge Share Posts

Search
  • Karma is real destiny - कर्म ही असली भाग्य

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    62
    Posted
    30 Apr 2018

    Karma is real destiny  (कर्म ही असली भाग्य)



    तेरा मेरा करते एक दिन चले जाना है,
           जो भी कमाया यही रह जाना है !

    कर ले कुछ अच्छे कर्म,
          साथ यही तेरे जाना है !

    रोने से तो आंसू भी पराये हो जाते हैं,

           लेकिन मुस्कुराने से...
    पराये भी अपने हो जाते हैं !

           मुझे वो रिश्ते पसंद है,
    जिनमें  " मैं " नहीं  " हम " हो !!

                 इंसानियत दिल में होती है, हैसियत में नही,
                           उपरवाला कर्म देखता है, वसीयत नही..

    -----------------------------------------------
       
    जीवन में किसी को…

  • Toran ka sach - तोरण का सच

    Category : General By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    12
    Posted
    24 Apr 2018

    तोरण का सच

    कुछ लोग जानकारी के अभाव मे गलती कर रहे हे
    हिन्दू समाज में शादी में तोरण मारने की एक आवश्यक रस्म है।
    जो सदियों से चली आ रही है। लेकिन अधिकतर लोग नहीं जानते कि यह रस्म कैसे शुरू हुई।
    दंत कथानुसार कहा जाता है कि एक तोरण नामक राक्षस था जो शादी के समय दुल्हन के घर के द्वार पर तोते का रूप धारण कर बैठ जाता था तथा दूल्हा जब द्वार पर आता तो उसके शरीर में प्रवेश कर दुल्हन से स्वयं शादी रचाकर उसे परेशान करता था।
    एक बार एक राजकुमार जो विद्वान एवं बुद्धिमान था शादी करने जब दुल्हन के घर में प्रवेश कर र…

  • Very touching & inspiring “जीवन के लिए खर्च” या “खर्च के लिए

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    29
    Posted
    24 Apr 2018

    very touching & inspiring
    -----------------------------
    पत्नी ने कहा - आज धोने के लिए ज्यादा कपड़े मत निकालना…
     
    पति- क्यों??
     
    उसने कहा..- अपनी काम वाली बाई दो दिन नहीं आएगी…
     
    पति- क्यों??
     
    पत्नी- गणपति के लिए अपने नाती से मिलने बेटी के यहाँ जा रही है, बोली थी…
     
    पति- ठीक है, अधिक कपड़े नहीं निकालता…
     
    पत्नी- और हाँ!!! गणपति के लिए पाँच सौ रूपए दे दूँ उसे? त्यौहार का बोनस..
     
    पति- क्यों? अभी दिवाली आ ही रही है, तब दे देंगे…
     
    पत्नी- अरे नहीं बाबा!! गरीब है बेचारी, बेटी-नाती…

  • परीक्षा लेने का निर्णय by God

    Comments
    0
    Views
    24
    Posted
    24 Apr 2018


    एक समय मोची का काम करने वाले व्यक्ति को रात में भगवान ने सपना दिया और कहा - कल सुबह मैं तुझसे मिलने तेरी दुकान पर आऊंगा !

    मोची की दुकान काफी छोटी थी और उसकी आमदनी भी काफी सीमित थी। खाना खाने के बर्तन भी थोड़े से थे। इसके बावजूद वो अपनी जिंदगी से खुश रहता था !

     एक सच्चा, ईमानदार और परोपकार करने वाला इंसान था। इसलिए ईश्वर ने उसकी परीक्षा लेने का निर्णय लिया !

    मोची मे सुबह उठते ही तैयारी शुरू कर दी। भगवान को चाय पिलाने के लिए दूध, चायपत्ती और नाश्ते के लिए मिठाई ले आया। दुकान को साफ कर वह भगवान का इं…

  • Angry - गुस्सा

    Category : Motivational By : Anonymous
    Comments
    0
    Views
    117
    Posted
    06 Feb 2018

    Angry - गुस्सा

     "पितामह भीष्म के जीवन का एक ही पाप था कि उन्होंने समय पर क्रोध नहीं किया
     और
    जटायु के जीवन का एक ही पुण्य था कि उसने समय पर क्रोध किया...
    परिणामस्वरुप एक को बाणों की  शैय्या मिली
    और
     एक को प्रभु श्री राम की गोद..

          अर्थात
    क्रोध भी तब पुण्य बन जाता है जब वह धर्म और मर्यादा की रक्षा के लिए किया जाए
    और
    सहनशीलता भी तब पाप बन जाती है जब वह धर्म और मर्यादा की रक्षा ना कर पाये।"